Hong Kong – SJ’s address at Ceremony for Admission of New Senior Counsel (English only)

SJ’s address at Ceremony for Admission of New Senior Counsel (English only)

***************************************************************************


     The following is the address by the Secretary for Justice, Mr Paul Lam, SC, at the Ceremony for the Admission of the New Senior Counsel today (May 20):

Chief Justice, members of the Judiciary, Chairman of the Bar, President of the Law Society, fellow members of the legal profession, distinguished guests, ladies and gentlemen:

     On behalf of the Department of Justice, I wish to extend my warmest congratulations to the four new silks, Mr Bruce Tse, Mr Anthony Chan, Mr Mike Lui and Mr Christopher Chain. Their appointment as Senior Counsel shows that their ability and integrity are well known and recognised. In order to enable you to have a better idea, or a more complete picture as to who they are, I have tried to collect information about them from my colleagues in the Department of Justice and my friends at the Bar. But since such information is largely hearsay in nature, I wish to disclaim liability in case what I am going to say turns out to be untrue or inaccurate.

     Let me start with Bruce. Bruce specialises in criminal matters. We were both the former pupils of Mr Warren Chan. Bruce is extremely hard working. My colleagues complained that he would call advising counsel at 12 midnight or even 1am to discuss cases when prosecuting on fiat. In court, he loves to use examples to illustrate his arguments; and hence, I was told that his pet phrase (口頭禪) is, in Cantonese, “舉個例” (i.e. for example). During court breaks, and before or after court, he is often seen drinking coffee/milk tea and smoking at the same time.

     Turning to Anthony, Anthony has a broad civil practice with an emphasis on public law and commercial law. He had been instructed by the Department of Justice to appear in many public law cases. One of my good friends at the Bar described him, perhaps not very kindly, as a very “old biscuit” (老餅) because since he was 20 he has been looking the same as now. I will definitely seek Anthony’s advice on how come he can preserve his appearance so successfully. He undoubtedly bears all the hallmarks of a gentleman. Having said that, appearance might be deceptive. What surprises me the most is that my colleagues told me Anthony is a loyal fan of a male artist, Ekin Cheng (鄭伊健). Ekin Cheng is, of course, most famous for the role he played and songs he sang in a series of films relating to the underworld in Hong Kong.

     Mike has a general civil and criminal practice. He appeared for the Government in both public law cases and other civil matters. I was told he excelled in mathematics and had won many mathematics prizes. He is described as a perfectionist, and loves winning. He is also very good at playing basketball. On one occasion, he wanted to win a basketball competition so badly that he hired an expensive basketball coach but, unfortunately, no one but Mike himself turned up at the training session. Whether his team won the game remains a mystery.

     Christopher specialises in commercial and company litigation. He had also appeared for the Government in civil matters. My colleagues said he is very diligent, efficient and approachable. He wrote me a long letter in reply to my congratulation message. What was unexpected is that, in the letter, he reassured me very tactfully that I had made the right choice to leave private practice. He did so by reminding me that we were against each other in a case before the Court of Appeal; the judges gave me a hard time; he won, and I lost.

     On a more serious note, today undoubtedly marks the beginning of a new chapter in the life and career of the four new silks. Senior Counsel are often depicted in movies and television dramas as upper class people enjoying a good life. Because of your ability and diligence, fame and wealth are well deserved. But they are not really the matters that should make you proud.

     My learned friend, Chairman of the Bar, Mr Victor Dawes, SC, said jokingly at the Bar Scholarship Presentation Ceremony about 10 days ago that the Hong Kong Bar is an endangered species. What he meant is that the Hong Kong Bar is a rare species since very few common law jurisdictions retain a divided legal profession. However, the Bar is not an endangered species as if it were facing a real risk of extinction.

     Leaders of our country have said repeatedly that the principle of “one country, two systems” is good policy that must be adhered to in the long run. They have also emphasised time and again that one of the unique advantages of Hong Kong is our common law system, and that it must be maintained and developed.

     As a matter of fact, about one third of the world’s population live in jurisdictions governed by the common law. One may, therefore, ask why is our common law system considered to be a unique advantage when common law is not unique to Hong Kong? Our legal system is unique in the sense that Hong Kong is the only place within China that practises the common law. It is an advantage because our common law system has a long history and enjoys a very high reputation around the world. It is a renowned common law system with Hong Kong characteristics under the principle of “one country, two systems”.

     The existence of a strong and independent Bar is an essential component of our distinctive common law system. It must follow that to maintain a strong and independent Bar will be critical to the preservation and development of our common law system. A strong and independent Bar entails a self-regulatory legal profession that commands the trust and respect of people both within and outside Hong Kong. This is where Senior Counsel play a special role.

     To begin with, as leaders of the Bar, Senior Counsel shall of course set good examples to junior members on how to provide legal services and discharge professional duties in an utmost competent and dignified manner. But more importantly, it is crucial for Senior Counsel to take the lead to show to people that we have a strong sense of community. We need to let people know and believe that top lawyers are not living in an ivory tower, who are only interested in pursuing their personal goals. Instead, we are ready and willing to sacrifice our time and income, and to contribute our legal expertise for the common good of society. I would strongly encourage you to provide public services whenever there are such opportunities.

     We are living at an unusual and challenging time in history. It will be naïve and dangerous to overlook the harsh reality that not all people wish to see the continuous success of our legal system. We have seen and heard false accusations, as well as malicious threats, being made against members of the Judiciary and the legal profession. They are apparently aimed at undermining people’s trust and confidence in Hong Kong’s legal and judicial system, and deterring judicial officers and legal professionals from discharging their professional duties.

     Members of the legal profession must speak out together loudly and clearly to defend our legal and judicial system. The words of Senior Counsel, who are known to be respectable members of the independent Bar, will be particularly weighty and reassuring to the general public. It is important to ensure that people will not be misled or lose confidence in our legal and judicial system. It is equally important to show to our enemies our solidarity, resilience and determination to rise up to challenges, and that we will not be deterred.

     I am very confident that the four new silks will meet these expectations. On this happy occasion, I wish to end by wishing you all the best and every success.

Hong Kong – CJ’s address at Ceremony for the Admission of the New Senior Counsel (with photos)

CJ’s address at Ceremony for the Admission of the New Senior Counsel (with photos)

**********************************************************************************


The following is issued on behalf of the Judiciary:   

     The following is the full text of an address by the Chief Justice of the Court of Final Appeal, Mr Andrew Cheung Kui-nung, at the Ceremony for the Admission of the New Senior Counsel today (May 20):

Secretary for Justice, Chairman of the Bar, President of the Law Society, fellow judges, ladies and gentlemen,

     It is a great pleasure to be able to welcome you all on behalf of the Judiciary to this annual ceremony to mark the occasion of the admission to the rank of Senior Counsel of Mr Bruce Tse, Mr Anthony Chan, Mr Mike Lui and Mr Christopher Chain. These appointments will undoubtedly strengthen the Inner Bar, as between them, the new Senior Counsel cover a broad range of practice areas.
 
     I take this opportunity to first extend to our new silks the heartiest and most earnest congratulations on your appointments as Senior Counsel. This is no doubt a moment for celebration for your families and friends, but also your colleagues and peers. It is, after all, the culmination of a long journey to the pinnacle of your career at the junior Bar, one that is more marathon than sprint. But as this journey ends, another begins.
 
     A career at the Bar is a unique one in many senses, one of which is that there really are very few conspicuous milestones, perhaps apart from the annual revision of one’s hourly rate and fees. So it is certainly remarkable when one is called to the Inner Bar. But being called to the Inner Bar is no ordinary career milestone.

     It is hard to believe that it is now nearly 420 years since the office of the first King’s Counsel in the ordinary, Sir Francis Bacon, was established. That the title of Senior Counsel has been sought for so long provides some idea of how significant the title is. But the title is not just significant to the legal profession alone.
 
     Formally, members of the Inner Bar are given precedence and a rank superior to that of ordinary counsel. However, the role of Senior Counsel in Hong Kong is far more significant than that. Under the “One Country, Two Systems” arrangement, the common law institution of the Inner Bar has been maintained along with Hong Kong’s common law traditions. The maintenance of the split profession between the Bar and solicitors ensures that clients have the benefit of independent legal advice and representation, particularly at trial. The cab-rank rule ensures the availability of legal representation to all, even those whose cases public opinion might be against.

     Since 1997, members of the Inner Bar have held high public offices and served in various statutory bodies as chairpersons and members.
 
     This illustrates that not only are Senior Counsel sought after for their legal services, but how seriously the rank of Senior Counsel is taken in our society. It is a mark of quality, and of credibility. Above all this, however, this also demonstrates how important the public service performed by members of the Inner Bar is to Hong Kong. Much of this work is unpaid, or token remuneration is given – payment for these public service roles is certainly a far cry from what the Senior Counsel could charge for their time. Yet I am pleased to say that many members of the Inner Bar have given generously of their time and expertise to public service in one form or another.

     The title of Senior Counsel is not merely an independent indication of professional excellence and integrity, but comes with it the responsibilities of leadership of the independent Bar and all its best qualities, including the upholding of the rule of law and the proper administration of justice, the highest standards of professional conduct, discipline and etiquette, and the right of all persons to be legally represented in a court of law. Much is expected of those holding the title – in particular, as leaders of the Bar, there is an expectation of Senior Counsel to give back to the profession, and to the community. Like those before you, we have no doubt that you will discharge this obligation with distinction.
 
     In this regard, the Bench too, draws heavily from the Inner Bar, not only for its generosity and public-mindedness, but also for its strong independence and depth of expertise. But not only that. Our society looks very much to members of the Inner Bar to help fill the ranks of the Judiciary. This in turn strengthens not only the Judiciary, but more importantly, the rule of law in Hong Kong.
 
     Whilst on this topic of strengthening the rule of law in Hong Kong, it is impossible not to mention that it is a duty of all lawyers, but in particular the Inner Bar, to protect the rule of law against those who would seek to undermine it. It is their duty to speak out in defence of Hong Kong’s legal system, including the independence of the Judiciary, and to stand up against any attempt to interfere with the due administration of justice by our judges.

     Thus, although your journey to the zenith of the junior Bar has come to a close, for Mr Bruce Tse, Mr Anthony Chan, Mr Mike Lui and Mr Christopher Chain, a new phase of your lives and careers now begins.

     Mr Bruce Tse has been a member of the Bar since 1997, and is a specialist in criminal matters. He now brings with him a rich experience in the criminal law to the Inner Bar.
 
     Mr Anthony Chan was called to the Bar in 2005, carrying on a broad civil litigation and advisory practice, with an emphasis on public law and commercial law that will no doubt continue to flourish.
 
     Mr Mike Lui has had a general civil and commercial practice since he was called to the Bar in 2006, and his expertise in judicial review, discrimination and employment litigation will certainly add to the breadth of the Inner Bar.
 
     And last but certainly not least, Mr Christopher Chain was admitted to the Bar in 2008, having specialised in commercial and company litigation, an area that remains key to Hong Kong as a legal jurisdiction.

     The responsibility of the Chief Justice in appointing new Senior Counsel is an onerous one, one that requires a large degree of looking to the future, not only of the applicants’ professional careers and maturity as a person, but of their potential contributions to the Bar, the law, and to the rule of law and future of Hong Kong. It is a process that involves consulting not only within the senior ranks of the Judiciary, but also the legal profession. I feel confident that the four successful applicants this year have not only enjoyed support from the Bench and the profession, but will in due course also enjoy the support of the wider public.

     It would be appropriate for me at this juncture to extend my congratulations to your spouses and children, parents and family members, colleagues and friends. No doubt they have supported you all greatly through late nights and long weekends lost to the preparation of cases in court.

     This is rightly a proud moment for them. As I mentioned, the title of Senior Counsel is an independent indication of professional excellence and integrity, as well as its public dimension. It is an acknowledgment of the experience, expertise and eminence of each of you in your respective areas of law. As barristers, it is also a mark of distinction in your practice of the art of advocacy, in presenting and defending your clients’ cases.

     I once again congratulate our four new Senior Counsel on their accomplishments. We are all, I am sure, looking forward to their further accomplishments in future, and their contributions to the rule of law and to the community of Hong Kong. This is indeed a special occasion for everyone. Thank you.

Text of PM’s address at the Bengaluru Tech Summit


Leaders of the tech world, international delegates, and friends, 


एल्लारिगू नमस्कारा Welcome to India! नम्म कन्नडा नाडिगे स्वागता, नम्म बेन्गलुरिगे स्वागता. 


I am delighted to address the Bengaluru Tech summit once again. I am sure you all are loving the warm people and vibrant culture of Karnataka.


Friends,


Bengaluru is the home of technology and thought leadership. It is an inclusive city. It is also an innovative city. For many years, Bengaluru is number one in India’s Innovation Index.


Friends,


India’s technology and innovation have already impressed the world. But the future will be much bigger than our present. Because India has: Innovative youth and increasing tech access.


Friends,


The power of India’s youth is known across the world. They have ensured tech globalisation and talent globalisation. Healthcare, management, finance – you will find young Indians leading many domains. We are using our talent for global good. Even in India, their impact is being seen. India jumped to the 40th rank in the Global Innovation Index this year. In 2015, we were ranked 81! The number of unicorn start-ups in India has doubled since 2021! We are now the 3rd largest start-up hub in the world. We have over 81,000 recognised startups. There are hundreds of international companies that have R&D centres in India. This is due to India’s talent pool.


Friends,


Indian youth are being empowered by increasing tech access. A mobile and data  revolution is happening in the country. In the last 8 years, Broadband connections rose from 60 million to 810 million, Smartphone users went from 150 million to 750 million. The growth of the internet is faster in rural areas than in urban areas. A new demographic is being connected to the information superhighway.


Friends, 


For a long time, technology was seen as an exclusive domain. It was said to be only for the high and mighty. But India has shown how to democratise technology. India has also shown how to give tech a human touch. In India, technology is a force of equality and empowerment. The world’s largest health insurance scheme Ayushman Bharat provides a safety net for nearly 200 million families. It means, about 600 million people! This programme is run based on a tech platform. India ran the world’s largest COVID-19 vaccine drive. It was run through a tech-based platform called COWIN. Let us go from the health sector to education. 


India has one of the largest online repositories of open courses. There are thousands of courses available across different subjects. Over 10 million successful certification have happened. This is all done online and free. Our data  tariffs are among the lowest in the world. During COVID-19, low data costs helped poor students to attend online classes. Without this, two precious years would have been lost for them.


Friends, 


India is using technology as a weapon in the war against poverty. Under Svamitva scheme, we are using drones to map lands in rural areas. Then, property cards are given to the people. This reduces land disputes. It also helps the poor to access financial services and credit. During COVID-19, many countries were struggling with a problem. They knew people needed help. They knew benefit transfers would help. But they did not have the infrastructure to take benefits to people. But India showed how technology could be a force for the good. Our Jan Dhan Aadhar Mobile Trinity gave us the power to directly transfer benefits. Benefits went directly to authenticated and verified beneficiaries. Billions of rupees reached the bank accounts of the poor. During COVID-19, everyone was worried about small businesses. We helped them but we went one step further. We help street vendors access working capital to restart businesses. Those who start using digital payments are given incentives. This is making digital transactions a way of life for them.


Friends, 


Have you heard of a government running a successful e-commerce platform? It has happened in India. We have the Government e-Marketplace, also called GeM. It is a platform where small traders and businesses fulfil the government’s needs. Technology has helped small businesses find a big customer. At the same time, this has reduced the scope for corruption. Similarly, technology has helped with online tendering.This has accelerated projects and boosted transparency. It has also hit a procurement value of Rs One trillion last year.


Friends, 


Innovation is important. But when backed by integration, it becomes a force. Technology is being used to end silos, enable synergy and ensure service. On a shared platform, there are no silos. Take, for example, the PM Gati Shakti National Masterplan. India is investing over Rs 100 trillion in infrastructure over the next few years. The number of stakeholders in any infra project is huge. Traditionally, in India, big projects were often delayed. Exceeding expenses, and extending timelines used to be common. But now, we have the Gati Shakti shared platform. The central government, state governments, district administrations, different departments can coordinate. Each of these knows what the other is doing. Information relating to projects, land use and institutions are available at a single place. So, each stakeholder sees the same data. This improves coordination and solves problems even before they occur. It is accelerating approvals and clearances.


Friends,


India is no more a place known for red tape. It is known for red carpet for investors. Whether it is FDI reforms, Or liberalization of drone rules, Or steps in the semiconductor sector, Or the production incentive schemes in various sectors, Or the rise of ease of doing business,


Friends, 


India has many excellent factors coming together. Your investment and our innovation can do wonders. Your trust and our tech talent can make things happen. I invite you all to work with us as we lead the world in solving its problems. I am sure your deliberations at the Bangalore Tech Summit will be interesting and fruitful. I wish you all the best.




***


DS/VJ/AK




(Release ID: 1876323)
Visitor Counter : 521











Text of PM’s address during interaction with the Jawans in Kargil on Diwali


भारत माता की जय!


भारत माता की जय!




पराक्रम और शौर्य से सिंचित कारगिल की इस मिट्टी को नमन करने का भाव मुझे बार बार अपने वीर बेटे-बेटियों के बीच खींच लाता है। मेरे लिए तो, वर्षों-वर्ष से मेरा परिवार आप सब ही हैं। मेरी दीपावली की मिठास आपके बीच बढ़ जाती है, मेरी दीपावाली का प्रकाश आपके बीच है और अगली दिवाली तक मेरा पथ प्रशस्त करता है। मेरी दीपावाली का उल्लास आपके पास है, मेरी उमंग आपके साथ है। मेरा सौभाग्य है, मुझे बरसों से दिवाली आपके बीच बॉर्डर पर आकर मनाने का अवसर मिल रहा है। एक ओर देश की संप्रभु सीमा, और दूसरी ओर उसके समर्पित सिपाही! एक ओर मातृभूमि की ममतामयी मिट्टी और दूसरी ओर उसे चन्दन बनाकर माथे पर लगाने वाले आप सब मेरे वीर जवान साथी, जांबाज नौजवान! इससे बेहतर दिवाली मुझे और कहाँ नसीब हो सकती है? और हम civilian लोगों की दिवाली, हमारी आतिशबाज़ी और कहां आपकी आतिशबाज़ी, आपकी तो आतिशबाज़ी ही अलग होती है। आपके धमाके भी अलग होते हैं।




साथियों,


शौर्य की अप्रतिम गाथाओं के साथ ही, हमारी परंपरा, मधुरता और मिठास की भी है। इसलिए, भारत अपने त्योहारों को प्रेम के साथ मनाता है। पूरी दुनिया को उसमें शामिल करके मनाता है। आज, कारगिल की इस विजय भूमि से, आप सब जवानों के बीच से मैं सभी देशवासियों को, और पूरे विश्व को दीपावली की हार्दिक बधाई देता हूँ। पाकिस्तान के साथ एक भी लड़ाई ऐसी नहीं हुई है जहां कारगिल ने विजय ध्वज न फहराया हो। आज के वैश्विक परिदृश्य में प्रकाश का ये पर्व पूरे विश्व के लिए शांति का पथ-प्रदर्शन करे, ये भारत की कामना है।




साथियों,


दिवाली का अर्थ है, आतंक के अंत के साथ उत्सव! आतंक के अंत का उत्सव! यही कारगिल ने भी किया था। कारगिल में हमारी सेना ने आतंक के फन को कुचला था, और देश में जीत की ऐसी दिवाली मनी थी, ऐसी दिवाली मनी थी कि लोग आज भी याद करते हैं। मेरा ये सौभाग्य रहा है, मैं उस जीत का भी साक्षी बना था, और मैंने उस युद्ध को भी करीब से देखा था। मैं हमारे अधिकारियों का आभारी हूं कि यहां आते ही मुझे कई साल पुरानी मेरी वो तस्वीरें दिखायी जो पल मैं आपके बीच में बिताता था। मेरे लिए वो पल बड़े भावुक थे, जब मैं वो फोटो देख रहा था और मैं आप सबका बहुत आभारी हूं कि आपने मुझे यादों के अंदर वीर जवानों के बीच में बीते हुए मेरे पल को फिर से आपने मुझे याद करा दिया, मैं आपका बहुत आभारी हूं। जब हमारे जवान कारगिल युद्ध में दुश्मन को मुंहतोड़ जवाब दे रहे थे, तब मुझे उनके बीच आने का सौभाग्य मिला था। देश के एक सामान्य नागरिक के रूप में मेरा कर्तव्य पथ, मुझे रणभूमि तक ले आया था। देश ने अपने सैनिकों की सेवा के लिए जो भी छोटी-मोटी राहत सामग्री भेजी थी। हम उसे लेकर यहां पहुंचे थे। हम तो सिर्फ उससे पुण्य कमा रहे थे क्योंकि देव भक्ति तो करते हैं, वो पल देशभक्ति के रंग से रंगे हुए आपका पूजन का मेरे लिए वो पल था। उस समय की कितनी ही यादें हैं, जो मैं कभी भूल नहीं सकता। ऐसा लगता था, चारों दिशाओं में विजय का जयघोष है, जयघोष है, जयघोष है। हर मन का आह्वान था- मन समर्पित, तन समर्पित। और यह जीवन समर्पित। चाहता हूँ देश की धरती तुझे कुछ और भी दूं!




साथियों,


हम जिस राष्ट्र की आराधना करते हैं, हमारा वो भारत केवल एक भौगोलिक भूखंड मात्र नहीं है। हमारा भारत एक जीवंत विभूति है, एक चिरंतर चेतना है, एक अमर अस्तित्व है। जब हम भारत कहते हैं, तो सामने शाश्वत संस्कृति का चित्र उभर जाता है। जब हम भारत कहते हैं, तो सामने वीरता की विरासत उठ खड़ी होती है। जब हम भारत कहते हैं, तो सामने पराक्रम की परिपाटी प्रखर हो उठती है। ये एक ऐसी अजस्र धारा है, जो एक ओर गगनचुंबी हिमालय से प्रस्फुटित होती है तो दूसरी ओर हिन्द महासागर में समाहित होती है। अतीत में असीम लपटें उठीं, विश्व की कितनी ही लहलहाती सभ्यताएँ रेगिस्तान सी वीरान हो गईं, लेकिन भारत के अस्तित्व की ये सांस्कृतिक धारा आज भी अविरल है, अमर है। और मेरे जवानों, एक राष्ट्र कब अमर होता है? राष्ट्र तब अमर होता है जब उसकी संतानों को, उसके वीर बेटे-बेटियों को अपने सामर्थ्य पर, अपने संसाधनों पर परम विश्वास होता है। राष्ट्र तब अमर होता है, जब उसके सैनिकों के शीश हिमालय के शीर्ष शिखरों की तरह उत्तंग होते हैं। एक राष्ट्र तब अमर होता है जब उसकी संतानों के बारे में ये कहा जा सके कि- चलन्तु गिरयः कामं युगान्त पवनाहताः। कृच्छेरपि न चलत्येव धीराणां निश्चलं मनः॥ यानी, प्रलयकाल के तूफानों से विशाल पर्वत भले ही क्यों न उखड़ जाएँ, लेकिन आप जैसे धीरों और वीरों के मन अडिग, अटल और निश्चल होते हैं। इसलिए, आपकी भुजाओं का सामर्थ्य हिमालय की दुरूह ऊंचाइयों को नापता है। आपका मनस्वी मन, मरुस्थलों की मुश्किलों का सफलता से मुक़ाबला करता हैं। आपके असीम शौर्य के आगे अनंत आकाश और असीमित समंदर घुटने टेकते हैं। कारगिल का कुरुक्षेत्र भारतीय सेना के इस पराक्रम का बुलंद गवाह बन चुका है। ये द्रास, ये बटालिक और ये टाइगर हिल, ये गवाह हैं कि पहाड़ों की ऊंचाइयों पर बैठा दुश्मन भी भारतीय सेना के गगनचुंबी साहस और शौर्य के आगे कैसे बौना बन जाता है। जिस देश के सैनिकों का शौर्य इतना अनंत हो, उस राष्ट्र का अस्तित्व अमर और अटल ही होता है।


साथियों,


आप सभी, सीमा के हमारे प्रहरी देश की रक्षा के मज़बूत स्तंभ हैं। आप हैं, तभी देश के भीतर देशवासी चैन से रहते हैं, निश्चिंत रहते हैं। लेकिन ये हर भारतवासी के लिए खुशी की बात है कि देश के सुरक्षा कवच को संपूर्णता देने के लिए, हर भारतवासी पूरी शक्ति लगा रहा है। देश सुरक्षित तभी होता है, जब बॉर्डर सुरक्षित हों, अर्थव्यवस्था सशक्त हो और समाज आत्मविश्वास से भरा हो। आप भी बॉर्डर पर आज देश की ताकत की खबरें सुनते हैं, तो आपका हौसला दोगुना हो जाता होगा। जब देश के लोग स्वच्छता के मिशन से जुड़ते हैं, गरीब से गरीब को भी अपना पक्का घर, पीने का पानी, बिजली-गैस जैसी सुविधाएं रिकॉर्ड समय पर मिलती हैं, तब हर जवान को भी गर्व होता है। दूर कहीं उसके घर में, उसके गांव में, उसके शहर में सुविधाएं पहुंचती हैं, तो सीमा पर उसका सीना भी तन जाता है, उसे अच्छा लगता है। जब वो देखता है कि कनेक्टिविटी अच्छी हो रही है, तो उसका घर पर बात करना भी आसान होता है और छुट्टी पर घर पहुंचना भी आसान बन जाता है।




साथियों,


मुझे पता है, जब 7-8 साल के भीतर ही देश की अर्थव्यवस्था 10वें नंबर से 5वें नंबर पर पहुंचती है, तो आपका भी माथा गर्व से ऊंचा होता है। जब एक तरफ आप जैसे युवा सीमा को संभालते हैं और दूसरी तरफ आपके ही युवा साथी 80 हज़ार से अधिक स्टार्ट अप बना देते हैं, नए-नए इनोवेशन करते हैं, तो आपकी खुशी भी बढ़ जाती है। दो दिन पहले ही इसरो ने ब्रॉडबैंड इंटरनेट का विस्तार करने वाले 36 सैटेलाइट, एक-साथ लॉन्च कर एक नया रिकॉर्ड बनाया है। अंतरिक्ष में भारत जब अपना सिक्का जमाता है तो कौन मेरा वीर जवान होगा जिसकी छाती चौड़ी न होती हो। कुछ महीने पहले जब युक्रेन में लड़ाई छिड़ी तो हमारा प्यारा तिरंगा कैसे वहां फंसे भारतीयों का सुरक्षा कवच बना, ये हम सभी ने देखा है। दुनिया में आज जिस प्रकार भारत का मान बढ़ा है, सम्मान बढ़ा है, विश्व पटल पर बढ़ती भारत की भूमिका आज सबके सामने है।




साथियों,


आज ये सब कुछ इसलिए हो पा रहा है, क्योंकि भारत अपने बाहरी और भीतरी, दोनों दुश्मनों के विरुद्ध सफलता के साथ मोर्चा ले रहा है। आप सीमा पर कवच बनकर खड़े हैं, तो देश के भीतर भी देश के दुश्मनों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई हो रही है। आतंकवाद की, नक्सलवाद की, अतिवाद की, जो भी जड़ें बीते दशकों में पनपी थी, उसको उखाड़ने का सफल प्रयास देश निरंतर कर रहा है। कभी नक्सलवाद ने देश के एक बहुत बड़े हिस्सों को चपेट में ले लिया था। लेकिन आज वो दायरा लगातार सिमट रहा है। आज देश भ्रष्टाचार के खिलाफ भी निर्णायक युद्ध लड़ रहा है। भ्रष्टाचारी चाहे कितना भी ताकतवर क्यों ना हो, अब वो बच नहीं सकता और बचेगा भी नहीं। कुशासन ने लंबे समय तक देश के सामर्थ्य को सीमित रखा, हमारे विकास के रास्ते में रोड़े अटकाए। आज सबका, साथ सबका विकास, सबका विश्वास और सबका प्रयास के मंत्र के साथ हम उन सभी पुरानी कमियों को तेज़ी से दूर कर रहे हैं। राष्ट्रहित में आज बड़े से बड़े निर्णय तेजी से किए जाते हैं, तेजी से लागू किए जाते हैं।




साथियों,


तेजी से बदलते हुए समय में, टेक्नोलॉजी के इस दौर में भविष्य के युद्धों का स्वरूप भी बदलने जा रहा है। नए दौर में नई चुनौतियों, नए तौर-तरीकों और राष्ट्ररक्षा के बदलती ज़रूरतों के हिसाब से भी आज हम देश की सैन्य ताकत को तैयार कर रहे हैं। सेना में बड़े रिफॉर्म्स, बड़े सुधार की जो ज़रूरत दशकों से महसूस की जा रही थी, वो आज ज़मीन पर उतर रही है। हमारी सेनाओं में बेहतर तालमेल हो, हम हर चुनौती के विरुद्ध तेज़ी से, त्वरित कार्रवाई कर सकें, इसके लिए हर संभव कदम उठाए जा रहे हैं। इसके लिए CDS जैसे संस्थान का निर्माण किया गया है। सीमा पर आधुनिक इंफ्रास्ट्रक्चर का नेटवर्क तैयार किया जा रहा है, ताकि आप जैसे हमारे साथियों को अपना कर्तव्य निभाने में अधिक सुविधा हो। आज देश में अनेक सैनिक स्कूल खोले जा रहे हैं। सैनिक स्कूलों में, सैन्य ट्रेनिंग संस्थानों को बेटियों के लिए खोल दिया गया है और मुझे गर्व है मैं बहुत सारी बेटियों को मेरे सामने देख रहा हूं। भारत की सेना में बेटियों के आने से हमारी ताकत में वृद्धि होने वाली है, ये विश्वास रखिए। हमारा सामर्थ्य बढ़ने वाला है।




साथियों,


देश की सुरक्षा का सबसे महत्वपूर्ण पहलू है- आत्मनिर्भर भारत, भारतीय सेनाओं के पास आधुनिक स्वदेशी हथियार। विदेशी हथियारों पर, विदेशी सिस्टम पर हमारी निर्भरता कम से कम हो, इसके लिए तीनों सेनाओं ने आत्मनिर्भरता का संकल्प लिया है। मैं प्रशंसा करता हूं अपनी तीनों सेनाओं की, जिन्होंने ये तय किया है कि 400 से भी अधिक रक्षा साजो सामान अब विदेशों से नहीं खरीदे जाएंगे। अब ये 400 हथियार भारत में ही बनेंगे, 400 प्रकार के भारत का सामर्थ्य बढ़ाएंगे। इसका एक और सबसे बड़ा लाभ होगा। जब भारत का जवान, अपने देश में बने हथियारों से लड़ेगा, तो उसका विश्वास चरम पर होगा। उसके हमले में दुश्मन के लिए Surprise Element भी होगा और दुश्मन का मनोबल कुचलने का साहस भी। और मुझे खुशी है कि आज एक तरफ अगर हमारी सेनाएं ज्यादा से ज्यादा मेड इन इंडिया हथियार अपना रही हैं तो वहीं सामान्य भारतीय भी लोकल के लिए वोकल हो रहा है। और लोकल को ग्लोबल बनाने के लिए सपने देखकर के समय लगा रहा है।




साथियों,


आज ब्रह्मोस सुपर सोनिक मिसाइल्स से लेकर ‘प्रचंड’ लाइट combat हेलीकाप्टर्स और तेजस फाइटर जेट्स तक, ये रक्षा साजो सामान भारत की शक्ति का पर्याय बन रहे हैं। आज भारत के पास, विशाल समंदर में विप्लवी विक्रांत है। युद्ध गहराइयों में हुआ, तो अरि का अंत अरिहंत है। भारत के पास पृथ्वी है, आकाश है। अगर विनाश का तांडव है, तो शिव का त्रिशूल है, पिनाका है। कितना भी बड़ा कुरुक्षेत्र होगा, लक्ष्य भारत का अर्जुन भेदेगा। आज भारत अपनी सेना की ज़रूरत तो पूरी कर ही रहा है, बल्कि रक्षा उपकरणों का एक बड़ा निर्यातक भी बन रहा है। आज भारत अपने मिसाइल डिफेंस सिस्टम को सशक्त रहा है, वहीं दूसरी तरफ ड्रोन जैसी आधुनिक और प्रभावी तकनीक पर भी तेज़ी से काम कर रहा है।




भाइयों और बहनों,


हम उस परंपरा को मानने वाले हैं जहां युद्ध को, हमने युद्ध को कभी पहला विकल्प नहीं माना है। हमने हमेशा, ये हमारा वीरता का भी कारण है, हमारे संस्कार का भी कारण है कि हमने युद्ध को हमेशा अंतिम विकल्प माना जाता है। युद्ध लंका में हुआ हो या फिर कुरुक्षेत्र में, अंत तक उसको टालने की हर संभव कोशिश हुई है। इसलिए हम विश्व शांति के पक्षधर हैं। हम युद्ध के विरोधी हैं। लेकिन शांति भी बिना सामर्थ्य के संभव नहीं होती। हमारी सेनाओं के पास सामर्थ्य भी है, रणनीति भी है। अगर कोई हमारी तरफ नज़र उठाकर देखेगा तो हमारी तीनों सेनाएं दुश्मन को उसी की भाषा में मुंहतोड़ जवाब देना भी जानती हैं।




साथियों,


देश के सामने, हमारी सेनाओं के सामने, एक और सोच अवरोध बनकर खड़ी थी। ये सोच है गुलामी की मानसिकता। आज देश इस मानसिकता से भी छुटकारा पा रहा है। लंबे समय तक देश की राजधानी में राजपथ गुलामी का एक प्रतीक था। आज वो कर्तव्य पथ बनकर नए भारत के नए विश्वास को बढ़ावा दे रहा है। इंडिया गेट के पास जहां कभी गुलामी का प्रतीक था, वहां आज नेता जी सुभाषचंद्र बोस की भव्य-विशाल प्रतिमा हमारे मार्ग दिखा रही है, हमारा मार्गदर्शन कर रही है। नेशनल वॉर मेमोरियल हो, राष्ट्रीय पुलिस स्मारक हो, राष्ट्ररक्षा के लिए कुछ भी कर गुजरने की प्रेरणा देने वाले ये तीर्थ भी नए भारत की पहचान हैं। कुछ समय पहले ही देश ने गुलामी के प्रतीक से भारतीय नौ-सेना को भी मुक्त किया है। नौ-सेना के ध्वज से अब वीर शिवाजी की नौ-सेना के शौर्य की प्रेरणा जुड़ गई है।




साथियों,


आज पूरे विश्व की नजर भारत पर है, भारत के बढ़ते सामर्थ्य पर है। जब भारत की ताकत बढ़ती है, तो शांति की उम्मीद बढ़ती है। जब भारत की ताकत बढ़ती है, तो समृद्धि की संभावना बढ़ती है। जब भारत की ताकत बढ़ती है, तो विश्व में एक संतुलन आता है। आज़ादी का ये अमृतकाल भारत की इसी ताकत का, इसी सामर्थ्य का साक्षात साक्षी बनने वाला है। इसमें आपकी भूमिका, आप सब वीर जवानों की भूमिका बहुत बड़ी भूमिका है, क्योंकि आप “भारत के गौरव की शान” हैं। तन तिरंगा, मन तिरंगा, चाहत तिरंगा, राह तिरंगा। विजय का विश्वास गरजता, सीमा से भी सीना चौड़ा, सपनों में संकल्प सुहाता, कदम-कदम पर दम दिखाता, भारत के गौरव- की शान, तुम्हे देख हर भारतीय गर्व से भर जाता है। वीर गाथा घर घर गुंजे, नर नारी सब शीश नवाऐ सागर से गहरा स्नेह हमारा अपने भी हैं, और सपने भी हैं, जवानों के अपने लोग भी तो होते हैं, आपका भी परिवार होता है। आपके सपने भी हैं फिर भी अपने भी हैं, और सपने भी हैं, देश हित सब किया है समर्पित अब देश के दुश्मन जान गए है लोहा तेरा मान गये है भारत के गौरव की शान, तुम्हे देख हर भारतीय गर्व से भर जाता है। प्रेम की बात चले तो सागर शान्त हो तुम पर देश पे नज़र उठी तो फिर वीर ‘वज्र’ ‘विक्रांत’ हो तुम, एक निडर ‘अग्नि’, एक आग हो तुम ‘निर्भय’ ‘प्रचंड’ और ‘नाग’ हो तुम ‘अर्जुन’ ‘पृथ्वी’ ‘अरिहंत’ हो तुम हर अन्धकार का अन्त हो तुम, तुम यहाँ तपस्या करते हो वहाँ देश धन्य हो जाता है, भारत के गौरव- की शान, तुम्हे देख हर भारतीय गर्व से भर जाता है। स्वाभिमान से खड़ा हुआ मस्तक हो तुम आसमां में ‘तेजस’ की हुंकार हो तुम दुश्मन की आँख में, आँख डाल के जो बोले ‘ब्रम्होस’ की अजेय ललकार हो तुम, हैं ऋणी तुम्हारे हर पल हम यह सत्य देश दोहराता है। भारत के गौरव- की शान, तुम्हे देख हर भारतीय गर्व से भर जाता है।




एक बार फिर आप सभी को और कारगिल के वीरों की यह तीर्थ भूमि के हिमालय की गोद से मैं देश और दुनिया में बसे हुए सब भारतीयों को मेरे वीर जवानों की तरफ से, मेरी तरफ से भी दीपावली की अनेक-अनेक शुभकामनाएं देता हूं। मेरे साथ पूरी ताकत से बोलिए, पूरे हिमालय से गूंज आनी चाहिए।




भारत माता की जय!


भारत माता की जय!


भारत माता की जय!


वंदे मातरम!


वंदे मातरम!


वंदे मातरम!




***


DS/SH/AV/AK




(Release ID: 1870608)
Visitor Counter : 689











Text of PM’s address at launch of Rozgar Mela & distributes appointment letters to 75000 candidates




साथियों,


आज भारत की युवा शक्ति के लिए एक महत्वपूर्ण अवसर है। बीते आठ वर्षों में देश में रोजगार और स्वरोजगार का जो अभियान चल रहा है, आज उसमें एक और कड़ी जुड़ रही है। ये कड़ी है रोज़गार मेले की। आज केंद्र सरकार आजादी के 75 वर्ष को ध्यान में रखते हुए 75 हज़ार युवाओं को एक कार्यक्रम के अंतर्गत नियुक्ति पत्र दे रही है। बीते आठ वर्षों में पहले भी लाखों युवाओं को नियुक्ति पत्र दिए गए हैं लेकिन इस बार हमने तय किया  कि इकट्ठे नियुक्ति पत्र देने की परंपरा भी शुरू की जाए। ताकि departments भी time bound प्रक्रिया पूरा करने  और निर्धारित लक्ष्यों को जल्द से पार करने का एक सामूहिक स्वभाव बने, सामूहिक प्रयास हो। इसलिए भारत सरकार में इस तरह का रोजगार मेला शुरू किया गया है। आने वाले महीनों में इसी तरह लाखों युवाओं को भारत सरकार द्वारा समय-समय पर नियुक्ति पत्र सौंपे जाएंगे। मुझे खुशी है कि एनडीए शासित कई राज्य और केंद्र शासित प्रदेश भी  और भाजपा सरकारें भी अपने यहां इसी तरह रोज़गार मेले आयोजित करने जा रहे हैं। जम्मू कश्मीर, दादरा एवं नगर हवेली, दमन-दीव और अंडमान-निकोबार भी आने वाले कुछ ही दिनों में हजारों युवाओं को ऐसे ही कार्यक्रम करके  नियुक्ति पत्र देने वाले हैं। आज जिन युवा साथियों को नियुक्ति पत्र मिला है, उन्हें मैं बहुत-बहुत बधाई देता हूं।


साथियों,


आप सभी ऐसे समय में भारत सरकार के साथ जुड़ रहे हैं, जब देश आज़ादी के अमृतकाल में प्रवेश कर चुका है। विकसित भारत के संकल्प की सिद्धि के लिए हम आत्मनिर्भर भारत के रास्ते पर चल रहे हैं। इसमें हमारे इनोवेटर्स, हमारे एंटरप्रन्योर्स, हमारे उद्यमी, हमारे किसान, सर्विसेज़ और मैन्युफेक्चरिंग से जुड़े हर किसी की बहुत  बड़ी भूमिका है। यानि विकसित भारत का निर्माण सबके प्रयास से ही संभव है। सबका प्रयास की इस भावना को तभी जागृत किया जा सकता है, जब हर भारतीय तक मूल सुविधाएं तेज़ी से पहुंचें, और सरकार की प्रक्रियाएं तेज़ हों, त्वरित हों। कुछ ही महीनों में लाखों भर्तियों से जुड़ी प्रक्रियाएं पूरी करना, नियुक्ति पत्र दे देना, ये अपने आप में दिखाता है कि बीते 7-8 वर्षों में कितना बड़ा बदलाव सरकारी तंत्र में लाया गया है। हमने 8-10 साल पहले की वो स्थितियां भी देखी हैं जब छोटे से सरकारी काम में भी कई-कई महीने लग जाते थे।  सरकारी फाइल पर एक टेबल से दूसरे टेबल तक पहुंचते-पहुंचते धूल जम जाती थी। लेकिन अब देश में स्थितियां बदल रही हैं, देश की कार्यसंस्कृति बदल रही है।


साथियों,


आज अगर केंद्र सरकार के विभागों में इतनी तत्परता, इतनी efficiency आई है इसके पीछे 7-8 साल की कड़ी मेहनत है, कर्मयोगियों का विराट संकल्प है। वरना आपको याद होगा, पहले सरकारी नौकरी के लिए अगर किसी को अप्लाई करना होता था, तो वहीं से अनेक परेशानियां शुरु हो जाती थीं। भांति-भांति के प्रमाण पत्र मांगे जाते, जो प्रमाणपत्र होते भी थे उनको प्रमाणित करने के लिए आपको नेताओं के घर के बाहर कतार लगाकर खड़ा रहना पड़ता था।  अफसरों की सिफारिश लेकर के जाना पड़ता था। हमने सरकार के शुरुआती वर्षों में ही इन सब मुश्किलों से युवाओं को मुक्ति दे दी। सेल्फ अटेस्टेशन, युवा अपने सर्टिफिकेट खुद प्रमाणित करे, ये व्यवस्था की। दूसरा बड़ा कदम हमने केंद्र सरकार की ग्रुप सी और ग्रुप डी इन भर्तियों में इंटरव्यू को खत्म करके उन सारे परंपराओं को उठा लिया। इंटरव्यू की प्रक्रिया को समाप्त करने से भी लाखों नौजवानों को बहुत फायदा हुआ है।


साथियों,


आज भारत दुनिया की पांचवीं बड़ी अर्थव्यवस्था है। 7-8 साल के भीतर हमने 10वें नंबर से 5वे नंबर तक की छलांग लगाई है। ये सही है कि दुनिया के हालात ठीक नहीं हैं, अनेक बड़ी-बड़ी अर्थव्यवस्थाएं संघर्ष कर रही हैं। दुनिया के अनेक देशों में महंगाई हो, बेरोज़गारी हो, अनेक समस्याएं अपने चरम पर है। 100 साल में आए सबसे बड़े संकट के साइड इफेक्ट्स, 100 दिन में चले जाएंगे, ऐसा न हम सोचते हैं, न हिन्दुस्तान सोचता है और न ही दुनिया अनुभव करती है। लेकिन इसके बावजूद संकट बड़ा है, विश्वव्यापी है और उसका प्रभाव चारों तरफ हो रहा है, दुष्प्रभाव हो रहा है। लेकिन इसके बावजूद भारत पूरी मज़बूती से लगातार नए नए initiative लेकर के, थोड़ा रिस्क लेकर के भी  ये प्रयास कर रहा है ये जो दुनिया भर में संकट है उससे हम हमारे देश को कैसे बचा पाएं? इसका दुष्प्रभाव हमारे देश पर कम से कम कैसे हो? बड़ा कसौटी काल है  लेकिन आप सबके आशीर्वाद से, आप सबके सहयोग से अब तक तो हम बच पाए हैं। ये इसलिए संभव हो पा रहा है क्योंकि बीते 8 वर्षों में हमनें देश की अर्थव्यवस्था की उन कमियों को दूर किया है, जो रुकावटें पैदा करती थीं।


साथियों,


 इस देश में ऐसा वातावरण बना रहे हैं,  जिसमें खेती की, प्राइवेट सेक्टर की, छोटे और लघु उद्योगों की ताकत बढ़े।  ये देश में रोज़गार देने वाले सबसे बड़े सेक्टर हैं। आज हमारा सबसे अधिक बल युवाओं के कौशल विकास पर है, स्किल डेवल्पमेंट पर है। प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना के तहत देश के उद्योगों की ज़रूरतों के हिसाब से युवाओं को ट्रेनिंग देने का एक बहुत बड़ा अभियान चल रहा है। इसके तहत अभी तक सवा करोड़ से अधिक युवाओं को स्किल इंडिया अभियान की मदद से ट्रेन किया जा चुका है। इसके लिए देशभर में कौशल विकास केंद्र खोले गए हैं। इन आठ वर्षों में केंद्र सरकार द्वारा उच्च शिक्षा के सैकड़ों नए संस्थान भी बनाए गए हैं। हमने युवाओं के लिए स्पेस सेक्टर खोला है, ड्रोन पॉलिसी को आसान बनाया है ताकि युवाओं के लिए देशभर में ज्यादा से ज्यादा अवसर बढ़ें।


साथियों,


देश में बड़ी संख्या में रोज़गार और स्वरोजगार के निर्माण में सबसे बड़ी रुकावट बैंकिंग व्यवस्था तक बहुत सीमित लोगों की पहुंच भी थी। इस रुकावट को भी हमने दूर कर दिया है। मुद्रा योजना ने देश के गांवों और छोटे शहरों में उद्यमशीलता का विस्तार किया है। अभी तक इस योजना के तहत करीब-करीब 20 लाख करोड़ रुपए के ऋण दिए जा चुके हैं। देश में स्वरोजगार से जुड़ा इतना बड़ा कार्यक्रम पहले कभी लागू नहीं किया गया। इसमें भी जितने साथियों को ये ऋण मिला है,  उसमें से साढ़े 7 करोड़ से अधिक लोग ऐसे हैं, जिन्होंने पहली बार अपना कोई कारोबार शुरू किया है, अपना कोई बिजनेस शुरु किया है। और इसमें भी सबसे बड़ी बात, मुद्रा योजना का लाभ पाने वालों में लगभग 70 प्रतिशत लाभार्थी हमारी बेटियां हैं, माताएं-बहनें हैं। इसके अलावा एक और आंकड़ा बहुत महत्वपूर्ण है। बीते वर्षों में सेल्फ हेल्प ग्रुप से 8 करोड़ महिलाएं जुड़ी हैं जिन्हें भारत सरकार आर्थिक मदद दे रही है। ये करोड़ों महिलाएं अब अपने बनाए उत्पाद, देशभर में बिक्री कर रही हैं, अपनी आय बढ़ा रही हैं। अभी मैं ब्रदीनाथ में कल पूछ रहा था, माताएं-बहनें जो सेल्फ हेल्प ग्रुप मुझे मिलीं, उन्होंने कहा इस बार जो बद्रीनाथ यात्रा पर लोग आए थे। हमारा ढाई लाख रुपया, हमारा एक-एक ग्रुप की कमाई हुई है।


साथियों,


गांवों में बड़ी संख्या में रोज़गार निर्माण का एक और उदाहरण, हमारा खादी और ग्रामोद्योग है। देश के पहली बार खादी और ग्रामोद्योग, 1 लाख करोड़ रुपए से अधिक का हो चुका है। इन वर्षों में खादी और ग्रामोद्योग में 1 करोड़ से अधिक रोज़गार बने हैं।  इसमें भी बड़ी संख्या में हमारी बहनों की हिस्सेदारी है।


साथियों,


स्टार्ट अप इंडिया अभियान ने तो देश के युवाओं के सामर्थ्य को पूरी दुनिया में स्थापित कर दिया है। 2014 तक जहां देश में कुछ गिने चुने सौ कुछ सौ स्टार्ट अप थे, आज ये संख्या 80 हज़ार से अधिक हो चुकी है। हज़ारों करोड़ रुपए की अनेक कंपनियां इस दौरान हमारे युवा साथियों ने तैयार कर ली हैं। आज देश के इन हज़ारों स्टार्ट अप्स में लाखों युवा काम कर रहे हैं। देश के MSMEs में, छोटे उद्योगों में भी आज करोड़ों लोग काम कर रहे हैं, जिसमें बड़ी संख्या में साथी बीते वर्षों में जुड़े हैं। कोरोना के संकट के दौरान केंद्र सरकार ने MSMEs के लिए जो 3 लाख करोड़ रुपए से ज्यादा की मदद दी, उससे करीब डेढ़ करोड़ रोज़गार जिस पर संकट आया हुआ था वो बच गए। भारत सरकार मनरेगा के भी माध्यम से देशभर में 7 करोड़ लोगों को रोजगार दे रही है। और उसमें अब हम asset निर्माण, asset creation पर बल दे रहे  हैं। डिजिटल इंडिया अभियान ने भी पूरे देश में लाखों डिजिटल आंट्रप्रन्योर्स का निर्माण किया है। देश में 5 लाख से अधिक कॉमन सर्विस सेंटर्स में ही लाखों युवाओं को रोज़गार मिला है। 5G के विस्तार से डिजिटल सेक्टर में रोज़गार के अवसर और बढ़ने वाले हैं।


साथियों,


21वीं सदी में देश का सबसे महत्वकांक्षी मिशन है, मेक इन इंडिया, आत्मनिर्भर भारत। आज देश कई मामलों में एक बड़े आयातक importer से एक बहुत बड़े निर्यातक exporter  की भूमिका में आ रहा है। अनेक ऐसे सेक्टर हैं, जिसमें भारत आज ग्लोबल हब बनने की तरफ तेज़ी से आगे बढ़ रहा है। जब खबर आती है कि भारत से हर महीने 1 अरब मोबाइल फोन पूरी दुनिया के लिए एक्सपोर्ट हो रहे हैं, तो ये हमारे नए सामर्थ्य को ही दिखाता है। जब भारत एक्सपोर्ट के अपने पुराने सारे रिकॉर्ड तोड़ देता है, तो ये इस बात का सबूत होता है कि ग्राउंड लेवल पर रोजगार के नए अवसर भी बन रहे हैं। आज गाड़ियों से लेकर मेट्रो कोच, ट्रेन के डिब्बे और डिफेंस के साजो सामान तक अनेक सेक्टर में निर्यात तेज़ी से बढ़ रहा है। ये तभी हो पा रहा है क्योंकि भारत में फैक्ट्रियां बढ़ रही हैं। फैक्ट्रियां बढ़ रही हैं, फैक्ट्रियां बढ़ रही हैं, तो उसमें काम करने वालों की संख्या बढ़ रही है।


साथियों,


मैन्युफेक्चरिंग और टूरिज्म, दो ऐसे सेक्टर हैं, जिसमें बहुत बड़ी संख्या में रोज़गार मिलते हैं। इसलिए आज इन पर भी केंद्र सरकार बहुत व्यापक तरीके से काम कर रही है। दुनियाभर की कंपनियां भारत में आएं, भारत में अपनी फैक्ट्रियां लगाएं और दुनिया की डिमांड को पूरी करें, इसके लिए प्रक्रियाओं को भी सरल किया जा रहा है। सरकार ने प्रोडक्शन के आधार पर इंसेंटिव देने के लिए PLI स्कीम भी चलाई है। जितना ज्यादा प्रोडक्शन उतना अधिक प्रोत्साहन, ये भारत की नीति है। इसके बेहतर परिणाम आज अनेक सेक्टर्स में दिखने शुरु भी हो चुके हैं। बीते वर्षों में EPFO का जो डेटा आता रहा है, वो भी बताता है कि रोजगार को लेकर सरकार की नीतियां से कितना लाभ हुआ है। दो दिन पहले आए डेटा के मुताबिक इस साल अगस्त के महीने में करीब 17 लाख लोग EPFO से जुड़े हैं।  यानि ये देश की फॉर्मल इकॉनॉमी का हिस्सा बने हैं। इसमें भी करीब 8 लाख ऐसे हैं जो 18 से 25 साल की उम्र के ग्रुप के हैं।


साथियों,


इंफ्रास्ट्रक्चर निर्माण से रोजगार निर्माण का भी एक और बड़ा अवसर होता है, एक बहुत बड़ा पक्ष होता है, और इस विषय में तो दुनियाभर में सब लोग मान्यता है  कि हां ये क्षेत्र है जो रोजगार बढ़ाता है। बीते आठ वर्षों में देशभर में हजारों किलोमीटर नेशनल हाईवे का निर्माण हुआ है। रेल लाइन के दोहरीकरण का काम हुआ है, रेलवे के गेज परिवर्तन का काम हुआ है, रेलवे में इलेक्ट्रिफिकेशन पर देशभर में काम किया जा रहा है। देश में नए हवाई अड्डे बना रहा है, रेलवे स्टेशनों का आधुनिकीकरण हो रहा है, नए वॉटरवेज बन रहे हैं। आप्टिकल फाइबर नेटवर्क का पूरे देश में बड़ा अभियान चल रहा है। लाखों वेलनेस सेंटर बन रहे हैं।  पीएम आवास योजना के तहत तीन करोड़ से ज्यादा घर भी बनाए गए हैं।  और आज शाम को धनतेरस पर जब मध्य प्रदेश के साढ़े चार लाख  भाई-बहनों को अपने घरों की चाबी सौंपूंगा तो मैं इस विषय पर भी  विस्तार से बोलने वाला हूं। मैं आपसे भी आग्रहकरूंगा। आज मेरा शाम का भाषण भी देख लीजिए।


साथियों,


भारत सरकार, इंफ्रास्ट्रक्चर पर सौ लाख करोड़ रुपए से ज्यादा का लक्ष्य लेकर चल रही है। इतने बड़े पैमाने पर हो रहे विकास कार्य, स्थानीय अवसर पर युवाओं के लिए रोजगार के लाखों अवसर बना रहे हैं। आधुनिक इंफ्रा के लिए हो रहे ये सारे कार्य, टूरिज्म सेक्टर को भी नई ऊर्जा दे रहे हैं। आस्था के, आध्यात्म के, ये ऐतिहासिक महत्व के स्थानों को भी देशभर में विकसित किया जा रहा है। ये सारे प्रयास, रोजगार बना रहे हैं, दूर-सुदूर में भी युवाओं को मौके दे रहे हैं। कुल मिलाकर देश में अधिक से अधिक रोजगार के निर्माण के लिए केंद्र सरकार एक साथ अनेक मोर्चों पर काम कर रही है।


साथियों,


देश की युवा आबादी को हम अपनी सबसे बड़ी ताकत मानते हैं। आज़ादी के अमृतकाल में विकसित भारत के निर्माण के सारथी हमारे युवा हैं, आप सभी हैं। आज जिन्हें नियुक्ति पत्र मिला है, उनसे मैं विशेष तौर पर कहना चाहूंगा कि आप जब भी दफ्तर आएंगे अपने कर्तव्य पथ को हमेशा याद करें। आपको जनता की सेवा के लिए नियुक्त किया जा रहा है। 21वीं सदी के भारत में सरकारी सेवा सुविधा का नहीं, बल्कि समय सीमा के भीतर काम करके देश के कोटि-कोटि लोगों की सेवा करने का एक कमिटमेंट है, एक स्वर्णिम अवसर है। स्थितियां, परिस्थितियां कितनी भी कठिन हों, सेवाभाव का सरोकार और समय सीमा की मर्यादा को हर हाल में हम सब मिलकर के  कायम रखने का प्रयास करेंगे। मुझे विश्वास है कि आप इस बड़े संकल्प को ध्यान में रखते हुए, सेवाभाव को सर्वोपरि रखेंगे। याद रखिए, आपका सपना आज से शुरु हुआ है, जो विकसित भारत के साथ ही पूरा होगा। आप सभी को फिर से नियुक्ति पत्र जीवन की एक नई शुरूआत के लिए बहुत-बहुत शुभकामनाएं हैं और मुझे विश्वास है कि आप मेरे अनन्य साथी बनकर के हम सब मिलकर के देश के सामान्य मानवीय की आशा, आकांक्षाओं को पूरा करने में कोई कमी नहीं रखेंगे। धनतेरस का पावन पर्व है। हमारे यहां इसका अत्यंत महत्व भी है। दिवाली भी सामने आ रही है। यानि एक त्यौहारों का पल है। उसमें आपके हाथ में ये पत्र होना आपके त्यौहारों को अधिक उमंग और उत्साह से भर देंगे साथ में एक संकल्प से भी जोड़ देंगे जो संकल्प एक सौ साल का जब भारत की आजादी का समय होगा। अमृतकाल के 25 साल आपके जीवन के भी 25 साल, महत्वपूर्ण 25 साल आईये मिलकर के देश को नई ऊंचाईयों पर ले जाएं। मेरी बहुत-बहुत शुभकामनाएं हैं। बहुत-बहुत धन्यवाद। 


***


DS/AK/DK




(Release ID: 1870228)
Visitor Counter : 797