Select Page

मध्य प्रदेश पर्यटन बोर्ड द्वारा वन्यजीव प्रेमियों को मानसून सीजन के दौरान मध्य प्रदेश के राष्ट्रीय उद्यानों और वन्यजीव अभयारण्यों में पर्यटन हेतु आमंत्रित करने के लिए बफर में सफर अभियान शुरू किया। इस अभियान से अब पर्यटक मानसून के दौरान नेशनल पार्क्‍स के भव्‍य आकर्षण का लुफ्त उठा सकेंगे। पर्यटकों हेतु तैयार किये गए इस अभियान में स्‍वच्‍छता एवं सुरक्षा का विशेष ध्‍यान दिया गया है।
मानसून के दौरान जंगलों का मुख्य क्षेत्र बंद हो जाता है लेकिन अन्वेषण के लिए जंगल के बफर क्षेत्र खुले रहते हैं। अभियान शीर्षक #BufferMeinSafar के द्वारा पर्यटकों के लिए बफर क्षेत्रों में विभिन्‍न गतिविधियॉ आयोजित की गई है। पर्यटक बफर ज़ोन में विभिन्न प्रजातियों को स्पॉट करने के रोमांच के अलावा, मानसून के दौरान जंगलों के हरे भरे प्राकृतिक सौन्‍दर्य दर्शन का आनंद ले सकेंगे।
मध्‍यप्रदेश पर्यटन बोर्ड राज्‍य में पर्यटन को बढावा देने तथा पर्यटकों के मनोबल को बढाने हेतु सदैव तत्‍पर है, भारत सरकार तथा प्रदेश शासन द्वारा दिये गये स्‍वच्‍छता, सुरक्षा एवं अन्‍य सभी जारी दिशानिर्देशों को ध्‍यान में रखते हुए हमने अपने सभी परिसरों को स्‍वच्‍छ और सेनिटाइज़ कर दिया है। जिससे हम यह सुनिश्चित कर रहे हैं कि स्वच्छता और संक्रमण से सुरक्षा संबन्‍धी समस्‍त मानदंडों का पालन किया जाए। पर्यटन मंत्रालय भारत सरकार द्वारा घरेलू पर्यटन के लिए जारी सामान्‍य दिशानिर्देशों का पालन करते हुए पर्यटकों को मध्‍यप्रदेश में घूमने के लिए आमंत्रित करने हेतु 3 से 4 दिन तथा 1-2 दिन के आकर्षक अन्‍तर्राज्‍यीय तथा राज्‍य स्‍तरीय स्‍वतंत्र यात्रा कार्यक्रम (Freedom Tour Plan) के साथ साथ लुभावने डिस्‍काउन्‍टेड टूर पैकेज कार्यक्रम तैयार किये है साथ ही साथ मध्‍यप्रदेश पर्यटन विकास निगम के सभी होटलों में अत्‍यंत ही रियायती दरों पर कमरे उपलब्‍ध कराए जा रहें है। इन सभी होटल्‍स में केन्‍द्रशासन द्वारा जारी होटल गाइडलाइन्‍स Contact Less Check-in/out सर्विस प्रोवाइडर्स गाइडलाईन्‍स तथा, स्‍टॉफ ट्रेनिंग आदि पर विशेष ध्‍यान दिया गया है।
मध्‍य प्रदेश में 6 टाइगर रिजर्व – बांधवगढ़, कान्हा, पेंच, पन्ना, सतपुड़ा और संजय दुबरी के साथ रातापानी वन्यजीव अभयारण्य और चंबल घड़ियाल अभयारण्य जैसे 11 राष्ट्रीय उद्यान और 24 वन्यजीव अभयारण्य है। हाल ही में मध्यप्रदेश में बाघों की सर्वाधिक संख्या होने की वजह से इसे “टाइगर स्टेट ऑफ इंडिया” घोषित किया गया है। मध्यप्रदेश की स्थलाकृति राज्य की केंद्रीय स्थिति तथा साथ ही साथ समृद्ध प्राकृतिक विविधता इसे संपूर्ण पर्यटन गंतव्य बनाते हैं। उच्च पर्वत श्रेणियों, नदियों और झीलों से युक्त हरे भरे जंगल प्रकृति के विभिन्न तत्वों के बीच एक सुंदर सामंजस्य प्रदान करते हैं। विभिन्न प्रकार के पशु पक्षी और पौधे तथा यहाँ की प्राकृतिक सुंदरता मध्य प्रदेश के पर्यटन की विशेषता है।