Select Page

पिरामिड पार्टी ऑफ इंडिया के रास्ट्रीय अध्यक्ष सौरभ बंसल ने बुधवार को आंध्र असोसिएशन में आगामी लोकसभा और विधानसभा चुनाव के लिए पार्टी का घोषणापत्र जारी किया। यह पार्टी दक्षिण भारत के विभिन्न क्षेत्रों में विधानसभा चुनाव में अपने उम्मीदवारों को खड़ा करती रही है। इस बार पार्टी हिंदी बेल्ट में अपनी मौजूदगी का अहसास कराना चाहती है और अपनी विचारधारा का प्रचार-प्रसार करना चाहती है। पिरामिड पार्टी ऑफ इंडिया के संस्थापक ब्रह्मर्षि पितामह पत्रीजी ने बताया की हमारी पार्टी 1999 में लौंच हुई थी , तब से हमने दक्षिण भारत में हर चुनाव में अपने उम्मीदवार उतारे हैं , अब हम उत्तरभारत में अपनी पार्टी मजबूती से लौंच करना चाहते है , हमारी पार्टी के उम्मीदवार बनने के लिए व्यक्ति को ध्यानसाधना करनी आनी चाहिए, और व्यक्ति को शाकाहारी होना चाहिए | शाकाहारी व्यक्ति निरोग होता है ध्यान से कोई बीमारी नहीं होती और व्यक्ति रास्ट्रीय की सेवा कर सकता है | उन्होंने कहा की अभी हमारी पार्टी का कोई अधिकारिक चुनाव चिन्ह नहीं है लेकिन अभी हमें बासुरी चुनाव चिन्ह मिला है उन्होंने कहा की हम किसी बड़ी पार्टी से घबराते नहीं है क्योंकि महाभारत के युद्ध में 5 पांड्वो ने केवल एक उपदेशक कृष्ण की बदौलत सौ कौरवों को हराया था |

ब्रह्मर्षि पितामह पत्रीजी ने कहा हम रास्ट्रीय स्तर पर अपनी मौजूदगी दर्ज कराना चाहते है , हमने आन्ध्र प्रदेश से अपना सफ़र सुरु किया है 1999 से 2019 तक आंध्रप्रदेश और तेलंगाना में कई उम्मीदवार खड़े किये है अब हम लोक सभा चुनाव से उत्तेर्भारत में अपना अभियान शुरू करने जा रहे है , उन्होंने कहा हमारी पार्टी की सदस्यता की फीस 10 रुपया है , उम्मीदवारों का चयन एक स्क्रीनिग कमिटी करेगी इसमें उम्मीदवार का शाकाहारी होना एक प्रमुख सर्त है गाय तो क्या किसी भी जानवर की हत्या नहीं होनी चाहिए |
पिरामिड पार्टी ऑफ इंडिया के संस्थापक ब्रह्मर्षि पितामह पत्रीजी ने मीडिया से बातचीत करते हुए पार्टी का चुनावी घोषणापत्र लॉन्च किया। उन्होंने कहा, “पिरामिड पार्टी ऑफ इंडिया इस बार लोकसभा चुनाव में आंध्रप्रदेश, तेलंगाना, उत्तराखंड, उत्तरप्रदेश और हरियाणा में उम्मीदवार खड़ा करेगी। आंध्रप्रदेश के विधानसभा चुनाव में हम हर विधानसभा सीट पर अपने उम्मीदवार को उतारेंगे। हम इन चुनाव में अपनी जीत के प्रति आशान्वित हैं।“ पत्रीजी ने कहा, “पिरामिड पार्टी ऑफ इंडिया का गठन भारत के सभी लोगों को ध्यान करने वाले और अच्छी विचारधारा में विश्वास रखने वाले प्रबुद्ध व्यक्तियों में बदलने के लिए किया गया है

पिरामिड पार्टी ऑफ इंडिया के अध्यक्ष सौरभ बंसल ने चुनावी घोषणापत्र के बारे में बताते हुए कहा, “हमारी पार्टी का लक्ष्य सभी नागरिकों को बेहतरीन स्वास्थ्य सुविधाएं प्रदान करना है। जनवितरण प्रणाली में सुधार किया जाएगा, जिससे लोगों को आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति बिना किसी रुकावट के हो। शिक्षा को सभी के लिए अनिवार्य बनाया जाएगा। यह शिक्षा ग्रेजुएशन तक बिल्कुल मुफ्त होगी। पुरुष और महिलाओं को समान अधिकार दिए जाएंगे। मानवीय गतिविधियों के लिए किसी भी क्षेत्र में अवसरों के लिए व्यक्ति की योग्यता ही एकमात्र पैमाना होगी। उन्होंने कहा कि पुरानी शिक्षा और परीक्षा प्रणाली को संशोधित किया जाएगा। छात्रों को उचित मार्गदर्शन और परामर्श पूर्ण रूप से प्रदान किया जाएगा। समाज के आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों के लिए जाति, पंथ और धर्म से निपरेक्ष रूप से वित्तीय सहायता और उचित और समान शिक्षा के लिए हर प्रकार की सहायता प्रदान करेगी। नागरिकों को स्वरोजगार के अवसरों का पता लगाने के लिए उपयुक्त आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी और राष्ट्र के आर्थिक विकास में भाग लेने के लिए अधिकार प्रदान किया जाएगा। पिरामिड पार्टी ऑफ इंडिया समग्र स्वास्थ्य, समग्र ऊर्जा, समग्र प्रौद्योगिकी और समग्र सेवाओं में अनुसंधान और विकास को प्रोत्साहित करेगी। पिरामिड पार्टी ऑफ इंडिया हर गांव को पेयजल, सिंचाई, सड़क और परिवहन सुविधा प्रदान करेगी। पेड़ काटने की मनाही होगी। इसे अपराध माना जाएगा और ग्रामीण क्षेत्रों में वनारोपण को बढ़ावा दिया जाएगा। किसी भी जानवर की हत्या करना कानून के खिलाफ होगा। इसके अलावा 30 वर्ष की आयु तक के सभी बेरोजगार युवकों को तब तक निश्चित साप्ताहिक बेरोजगारी अनुदान प्रदान किया जाएगा, जब तक उन्हें नौकरी नहीं मिलती। पार्टी के संस्थापक और अध्यक्ष ने आगामी चुनाव में पार्टी के अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद जाहिर की।