Select Page

भारत सरकार के संस्कृति मंत्रालय के अधीन के राष्ट्रीय आधुनिक कला संग्रहालय (एनजीएमए), नई दिल्ली की खास पहल ‘मित्रम’ (फ्रेंड्स ऑफ म्यूजियम) के जरिए कला के प्रति अनुराग रखने वाले व्यक्तियों को जोड़ने की कोशिश की जा रही है। ‘मित्रम’ उत्साही लोगों का बहु सांस्कृतिक मैत्री समूह है, जहां वह कला और संस्कृति के क्षेत्र में समान दिलचस्पी को बढ़ावा देने के लिए मिल-जुल कर विचार विमर्श कर सकते हैं।

मित्रम की अगली बैठक एनजीएमए के प्रांगण में 21 जुलाई को होने जा रही है जिसमें उत्साही कलाकारों का समागम होगा। मित्रम ग्रुप की बैठक हर महीने के पहले और तीसरे शनिवार को होगी।

एनजीएमए के महानिदेशक अद्वैत गड़नायक ने कहा, “मैं बहुत खुश हूं कि नेशनल गैलरी ऑफ मॉडर्न आर्ट (एन.जी.एम.ए.) नई दिल्ली में मित्रम कार्यक्रम की शुरुआत हुई है। ‘मित्रम’ ग्रुप एन.जी.एम.ए. का दोस्त होगा, जिसके सदस्य समाज के अलग-अलग वर्गो एवं पृष्ठभूमि से आते हैं और कला और संस्कृति के क्षेत्र में समान दिलचस्पी को साझा करते हैं। ये दोस्त अलग-अलग नजरिये के विचार और मूल्यवान सुझाव देकर संग्रहालय को लाभान्वित कर सकते हैं। एन.जी.एम.ए. को आम लोगों की पहुंच में लाने का और जनमसूह को मित्र बनाने की दिशा में एक छोटा सा कदम है।”

एनजीएमए की प्रमुख जिम्मेदारी गुणवत्ता सुनिश्चित करना और सर्वोत्कृष्टता के पैमानों को तय करना है। एन.जी.एम.ए. के खूबसूरत और शैक्षणिक मकसद से ही इसके उद्देश्य या लक्ष्य पारिभाषित नहीं होते, बल्कि इन्हें संगठन में ही अंर्तनिहित करने और संगठन की तमाम गतिविधियों में इन्हें शामिल करने की कोशिश की जाती है।

इन सबसे बढ़कर नेशनल गैलरी ऑफ मॉडर्न आर्ट लोगों को आधुनिक कलाकृतियों की ओर अत्यधिक प्रसन्नता और समझबूझ से देखने में मदद करते हैं। इससे वह अपना रिश्ता इन कलाकृतियों से जोड़ सकते हैं और उनके साथ मानवीय भावना की प्रमुख अभिव्यक्ति का अनुभव कर सकते है।